गुजरात : पाटीदार आरक्षण आंदोलन के नेता हार्दिक पटेल के पूर्व करीबी सहयोगी चिराग पटेल ने बुधवार को गुजरात के उप मुख्यमंत्री नीतिन पटेल की उपस्तिथि मे सत्तारूण पार्टी बीजेपी मे शामिल हो गए है  हार्दिक पटेल के साथ साथ चिराग पटेल भी राजद्रोह के आरोपों का सामना कर रहे है  बीजेपी मे शामिल होने के बाद चिराग ने हार्दिक पर निजी महत्वकांक्षाओ को पूरा करने के लिए पाटीदार आरक्षण आंदोलन को हथियाने का आरोप लगाया है उन्होंने सवाददाताओ से कहा पाटीदार समुदाय को आरक्षण दिलाने के लिए शुरू हुआ आंदोलन ाव एक व्यक्ति के निजी महत्वाकांक्षाओ को पूरा करने के माध्यम बन गया है यह धन और सत्ता हासिल करने का एक जरिया बन गया है मैं मानता हु की आंदोलन गलत दिशा मे जा रहा है

 

इससे पहले बीजेपी ने पाटीदार समाज के दो नेता रेशमा पटेल और वरुण पटेल को भी अपने खेमे में जोड़ लिया था। बीजेपी में शामिल होने पर रेशमा पटेल ने प्रतिक्रिया देते हुए कहा था, हमारी लड़ाई समाज को न्याय दिलाने की थी न कि काग्रेस को जिताने की। बीजेपी ने हमारी तीन मांगें स्वीकार कर ली हैं।” बीजेपी की पूरी कोशिश पाटीदार एकता को तोड़ने की है। पार्टी जितना ज्यादा पाटीदार वोटरों को तोड़ने में कामयाब होगी, जीत की संभावना उतनी ही बढ़ती जाएगी

Loading...